एक बार एक सेठ अपनी दुकान पर बेठे थे.. दोपहर का समय था इसलिए कोई ग्राहक भी नहीं था तो वो थोड़ा सुस्ताने लगे..

इतने में ही एक संत भिक्षक भिक्षा लेने के लिए दुकान पर आ पहुचे और सेठ जी को आवाज लगाई कुछ देने के लिए…

सेठजी ने देखा की इस समय कोन आया है ?
*जब उठकर देखा तो एक संत याचना कर रहा था..

सेठ बड़ा ही दयालु था वह तुरंत उठा और दान देने के लिए एक कटोरी चावल बोरी में से निकाला और संत के पास आकर उनको चावल दे दिया…

संत ने सेठ जी को बहुत बहुत आशीर्वाद और सुभकानाये दी…

तब सेठ जी ने संत से हाथ जोड़कर बड़े ही विनम्र भाव से कहा कि..

हे गुरुजन, आपको मेरा प्रणाम … मैं आपसे अपने मन में उठी शंका का समाधान पूछना चाहता हुं।

संत ने याचक से कहा की जरुर पूछो… तब सेठ जी ने कहा की.. लोग आपस में लड़ते क्यों है ?

संत ने सेठ जी के इतना पूछते ही.. शांत स्वभाव और मीठी वाणी वाले संत ने चीखकर कहा की सेठ मैं तुम्हारे पास भिक्षा लेने के लिए आया हुं..

तुम्हारे इस प्रकार के मूर्खता पूर्वक सवालो के जवाब देने नहीं आया हुं।

संत के मुख से इतना सुनते ही सेठ जी को क्रोध आ गया और मन में सोचने लगे की यह केसा घमंडी और असभ्य संत है ?

ये तो बड़ा ही कृतघ्न है, एक तरफ मैंने इनको दान दिया और ये मेरे को ही इस प्रकार की बात बोल रहे है..

इनकी इतनी हिम्मत… और ये सोच कर सेठजी को बहुत ही गुस्सा आ गया और वो काफी देर तक उस संत को खरी खोटी सुनाते रहे।

और जब अपने मन की पूरी भड़ास निकाल चुके तब कुछ शांत हुए तब, संत ने बड़े ही शांत और स्थिर भाव से कहा की.

जैसे ही मैंने कुछ बोला आपको गुस्सा आ गया, और आप गुस्से से भर गए और लगे जोर जोर से बोलने और चिलाने…

वास्तव में केवल गुस्सा ही सभी झगड़े का मूल कारण होता है..

यदि सभी लोग अपने गुस्से पर काबू रखना सीख जाये तो दुनिया में झगड़े होने की संभावना न् के बराबर होगी !!

गुस्सा आदमी की सोचने व समझने की शक्ति को नष्ट कर देता ह ।
इसलिए दिमाग को शांत और मन स्थिर रखने का अभ्यास जरूर करना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
आरती संग्रह
चालीसा संग्रह
मंत्र
Search